Artikel Terbaru

recentpost

एल्फान्यूमैरिक कोड्स


एल्फान्यूमैरिक कोड्स(Alphanumeric Codes)

डिजिटल computers के अनेक अनुप्रयोगों मे प्रयुक्त डाटा केवल अंको मे नहीं होता, बल्कि उसमे विभिन्न अक्षरों, शब्दों और स्पेशल कैरेक्टर्स(जैसे-ब्रैकेट, fullstop,कॉमा, equalto) आदि का भी प्रयोग होता है| 

उदाहरण:- किसी बीमा कंपनी के पालिसी होल्डर्स की फाइल्स को computer मे स्टोर करने हेतु उन पालिसी होल्डर्स के नाम, पते आदि computer को फीड करने होते है| समस्त अक्षरों, स्पेशल कैरेक्टर्स को computerमे फीड करने हेतु प्रत्येक अक्षर, कैरेक्टर्स का बाइनरी कोड होना आवश्यक है ताकि computer इन अक्षर, और शब्दों को भली-भांति समझ सके |

 एल्फान्यूमैरिक डाटा का तात्पर्य ऐसे डाटा से है, जिसमे numbers, alphabets, punctation marks, और अन्य special कैरेक्टर्स शामिल हो और ऐसे कोड्स जिनमे एल्फान्यूमैरिक डाटा को कोड किया जा सकता है, एल्फान्यूमैरिक कोड कहलाते है| एक पूर्ण एल्फान्यूमैरिक कोड वह होते है जिसमे सभी 26 alphabets के लोअर केस(a-z) व अपरकेस(A-Z) हेतु , 10 अंको(0-9) हेतु, 7 puctation marks और लगभग 20 से 40 अन्य कैरेक्टर्स हेतु कोड निर्धारित होते है| alphanumeric कोड्स मे एक computer keyboard के सभी कैरेक्टर्स व फंक्शन हेतु कोड होते है|

सबसे अधिक प्रचलित एल्फान्यूमैरिक  code एस्की(ASCII) कोड है इसका full form है- American Standard Code for Information Interchange.इसी कोड को विभिन्न computers मे  प्रयोग किया जाता है|

ASCII(American Standard Code for Information Interchange)- ASCII कोड एक 7-बिट कोड है| 7-बिट की सहायता से 128 बाइनरी ग्रुप बन सकते है| समस्त ASCII कोड की तालिका:


X6X5X4

X3X2X1X0


                       010   011 100 101 110 111

 0000 SP 0 @ P p

 0001 ! 1 A Q a q

 0010 " 2 B R b r

 0011 # 3 C S c s

 0100 $ 4 D T d t

 0101 % 5 E U e u

 0110 & 6 F V f v

 0111 , 7 G W g w

 1000 ( 8 H X h x

 1001 ) 9 I Y i y

 1010 * : J Z j z

 1011 + ; K k

 1100 , < < L 1

 1101 - = M m

 1110 * > N n

 1111 / ? O o


अत: ASCII कोड को computer और इनपुट-आउटपुट डिवाइस जैसे- keyboard,वीडियो टर्मिनल, प्रिंटर के मध्य सूचना ट्रांसफर करने हेतु प्रयुक्त किया जाता है|


EmoticonEmoticon