X- Rays क्या हैं ? और यह किस तरह से produce होती हैं ?

Hi friends, आज मैं आपको एक important topic के बारे में बताता हूँ कि X- Rays क्या हैं ? यह किस प्रकार produce की जाती हैं ? और इनका use कहा कहा किया जाता हैं ? इन सभी बातो की जानकारी आपको इस post में दी जाएगी |

परिचय(Introduction)

चलिए दोस्तों पहले इसके introduction की बात करते हैं, इसे 1895 में German Scientist “Rantgon” देखा कि जब fast velocity(speed) से चलने वाली cathode rays अधिक weight और high melting point वाली मेटल की प्लेट से टकराती हैं तो एक new ray generate होती हैं जिन्हें X-Rays कहा जाता हैं, यह  आखों से दिखाई नहीं देती  हैं इन्हें photography plate पर देख सकते हैं इन rays को “Rantgon Rays” भी कहा जाता हैं| 

X- Rays का Production

अब इसके production पर बात करते हैं, X- Rays के production के लिए “coalidge tube” का use किया जाता हैं इसमें hard glass का एक बल्ब होता हैं जिसके अन्दर high vaccum भरा होता हैं, इसमें एक step-up ट्रांसफार्मर, filament और target के बीच लगा होता हैं जब इस ट्रांसफार्मर से 20000 volt का ac apply किया जाता हैं तो filament से इलेक्ट्रान(electron) निकलने लगते हैंऔर यह target से टकराते हैं और X- Rays निकलने लगती हैं इलेक्ट्रान(electron) के continously टकराने से target गर्म(heat) हो जाता हैं दोस्तों शायद  आप नहीं जानते होगे |

X-Rays information in hindi, X-Rays ki पूरी jaanakri hindi main, X-Ray introduction in hindi, Application of X-Rays in hindi

 कि इलेक्ट्रान(electron) की कुल energy का 1% भाग ही X-Ray produce करता हैं और बचा part heat में change हो जाता हैं| यदि आप इस heat को हटाने का प्रबंध नहीं karenge तो आपका target pighal भी  सकता हैं यही reason हैं कि target के चारो ओर कॉपर की tube में water flow किया जाता हैं जिससे target को cool रखा जाता हैं| जब X-Rays produce की जाती हैं तो यह dhayaan रखा जाता हैं कि filament से निकलने वाले इलेक्ट्रान target पर pahucne से पहले tube की गैस(gas) में takar न हो यही reason कि  tube में हाई vaccum भरा जाता हैं यदि ऐसा नहीं होता हैं तो filament को loss होगा |

X-Ray की Properties

इसकी properties कई प्रकार की होती हैं उनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

1)यदि इनको किसी व्यक्ति की body पर डाला जाता हैं तो यह  उनके लिए बहुत घातक होती हैं और उनकी body पर इनसे बहुत बुरा प्रभाव भी पड़ता हैं|

2)यह एक सीधी रेखा में चलती हैं और ये प्रकाश के वेग से चलती हैं|

3)यह photography plate पर chemical reaction करके उस black कर देती हैं|

4)X-Rays different चीजों जैसेः-लकड़ी, gate, धातु की पतली चादर, मॉस में आसनी से enter कर जाती हैं lakin यह भारी वस्तुओं में से pass नहीं होती हैं अगर इनके रास्तें में कोई भारी वस्तु आती हैं तो उनकी छाया बन जाती हैं|

5)यह एक छोटी wavelength(.03-30A) की electromagnt wave होती हैं जिसके कारण इनकी energy बहुत अधिक होती हैं इनकी wavelenght, light की wavelenght(4000-7500A) से बहुत कम होती हैं|

6)यह magnetic और electric area में stable रहती हैं|




X-Rays के उपयोग 

आजकल X-Rays का use बहुत जगह पर किया जाता हैं जैस:-surgery, art, detective department और बहुत से जगह पर इसका use किया जाता हैं आज में आपको इससे related पूरी जानकारी दूंगा |

1.Surgery में

X-Rays low density की चीजों जैसेः- लकड़ी, कागज़, मॉस और blood में आसानी से enter कर जाती हैं lakin high density जैसेः- लोहे से पास नहीं होती हैं अब जानते हैं कि X-Rays किस प्रकार लिया जाता हैं अब रोगी के जिस part की internal जाचं करनी हैं उस part के नीचे photography की plate को रखकर ऊपर से कुछ second के लिए X-Rays को डाला जाता हैं इससे धसी गोली या पथरी की उपस्तिथि का बिल्कुल ठीक तरह से पता चल जाता हैं| इसकी help से टूटी हड्डी का भी बिल्कुल ठीक तरह से पता लगाया जा सकता हैं|

2.Business में

 X-Rays का use business में भी किया जाता हैं इसके help से नकली हीरो और असली हीरो की पहचान की जाती हैं| सीप में मोती हैं या नहीं इसकी जाचं भी X-Rays की help से की जाती हैं| इसकी help से रबर, लकड़ी आदि समान की जाचं भी की जा सकती हैं|

3.Engineering Department में

 X-Rays के उपयोगों में से यह भी एक important use हैं, इसकी help से भवनों और पुलों के अन्दर लगे लोहे के internal दरारों, वायु के बुलबुलों आदि का पता लगाया जा सकता हैं इन दरारों को हटाकर दुर्घटना को रोका सा सकता हैं|

4.Detective Department में
यह rays detective department को बहुत help करती हैं इनकी help से body के अन्दर hidden वस्तुओं को आसानी से देखा जा सकता हैं| कस्टम अधिकारी इन्ही rays की help से boxes में hide किए गए जेवर आदि समान का पता लगाते हैं|

5.Radiotherapy

X-Rays की help से कुछ रोगों का treatment भी किया जा सकता हैं इसकी help से कैंसर का भी treatment किया जा सकता हैं, यदि कोई व्यक्ति इसका अधिक use करता हैं, तो उसकी health को नुकसान हो सकता हैं इसलिए डॉक्टर भी इस पर कार्य करने के लिए सीसे के cloth और चश्मे पहनते हैं|

6.Art में:- 

X-Rays के उपयोगों में से यह भी एक important उपयोग हैं इसकी help से पुरानी(old) oil paintings में होने वाले परिवर्तन की easily जाचं की जा सकती हैं|

Keywords:- X-Rays information in hindi, X-Rays ki पूरी jaanakri hindi main, X-Ray introduction in hindi, Application of X-Rays in hindi

इसे 1895 में German Scientist “Rantgon” देखा कि जब fast velocity(speed) से चलने वाली cathode rays अधिक weight और high melting point वाली मेटल की प्लेट से टकराती हैं तो एक new ray generate होती हैं जिन्हें X-Rays कहा जाता हैं, यह आखों से दिखाई नहीं देती हैं इन्हें photography plate पर देख सकते हैं इन rays को “Rantgon Rays” भी कहा जाता हैं|

Post a Comment

[blogger]

Author Name

Contact Form

Name

Email *

Message *

2016-2017. Powered by Blogger.